DilSeDilTak.co.in

Shayari, SMS, Quotes, Jokes And More....







कंकरीली राहों की कसक, आज भी ताज़ा है

कंकरीली राहों की कसक, आज भी ताज़ा है
गरम रेत की वो तपिश, आज भी ताज़ा है
फटी बिबाइयों का वो कशकता खामोश दर्द,
और कांटों की वो चुभन, आज भी ताज़ा है
रातों में जग कर अपनी फसलों का पहरा,
और माघ की वो ठिठुरन, आज भी ताज़ा है
जेठ में लू की लपकती भयानक वो लपटें,
और पशीने की वो लथपथ, आज भी ताज़ा है
बौराये आमों का तालाब के किनारे बगीचा,
कोकिल का वो मधु कलरव, आज भी ताज़ा है
मुद्दत गुज़र गयी कमल दल देखे बिना हमें,
मगर दिल में उनकी महक, आज भी ताज़ा है
वर्षों गुज़र गए घर से बेघर हुए हमको यारो,
मगर दिल में गांव की हवा, आज भी ताज़ा है

शांती स्वरूप मिश्र

Leave a Reply







DilSeDilTak.co.in © 2015