DilSeDilTak.co.in

Shayari, SMS, Quotes, Jokes And More....






Month: September 2016

प्रेरक शिक्षाप्रद हिंदी अनमोल वचन सुविचार – ज्ञानवर्धक प्रेरणादायक विचार : धन दौलत से ज्यादा – अच्छा व्यवहार काम आता है।

संसार में दो प्रकार के वृक्ष हैं……

प्रथम – अपना फल अपने आप दे देते हैं। जैसे – आम, अमरूद, केला इत्यादि।

द्वितीय – अपना फल छिपाकर रखते हैं। जैसे – आलू, अदरक, प्याज इत्यादि।

जो अपना फल अपने आप दे देते हैं उन वृक्षों को सभी खाद-पानी देकर सुरक्षित रखते हैं किन्तु जो अपना फल छिपाकर रखते हैं वे जड़ से खोद दिये जाते हैं। ठीक इसी प्रकार जो अपनी विद्या, धन, शक्ति स्वयं ही समाज सेवा में, समाज के उत्थान में लगा देते हैं, उनका सभी ध्यान रखते हैं अर्थात मान-सम्मान देते हैं। वहीं दूसरी ओर जो अपनी विद्या, धन, शक्ति स्वार्थवश छिपाकर रखते हैं, किसी की सहायता से मुख मोडे रखते हैं वे जड़ सहित खोद लिये जाते हैं, अर्थात समय रहते ही भुला दिये जाते हैं।🙏

शिक्षा : धन दौलत से ज्यादा – अच्छा व्यवहार काम आता है।🙏

(प्रेरक शिक्षाप्रद हिंदी अनमोल वचन सुविचार – ज्ञानवर्धक प्रेरणादायक विचार – प्रेरक हिंदी शायरी )

Updated: September 29, 2016 — 3:52 pm

Ghazal Shayari Hindi Mein – Kaise Keh Du Ki Mulaqaat Nahi Hoti Hai

कैसे कह दूँ कि मुलाकात नहीं होती है,
रोज़ मिलते हैं मगर बात नहीं होती है;
आप लिल्लाह न देखा करें आईना कभी,
दिल का आ जाना बड़ी बात नहीं होती है;
छुप के रोता हूँ तेरी याद में दुनिया भर से,
कब मेरी आँख से बरसात नहीं होती है;
हाल-ए-दिल पूछने वाले तेरी दुनिया में कभी,
दिन तो होता है मगर रात नहीं होती है;
जब भी मिलते हैं तो कहते हैं कैसे हो,
इस से आगे तो कोई बात नहीं होती है!

Updated: September 21, 2016 — 9:59 pm

Sad Ghazal Hindi Mein – Daaman Bhi Khaali Ho Gaya

दामन भी खाली हो गया ख़ुशीयां जलाते जलाते,
बरबाद हो गये हम तुझको भुलाते भुलाते,
थक गयीं रातों की परियां हो गयीं सुनसान गलियां,
मायूस हो गयी हवा भी मुझको सुलाते सुलाते,
बढ़ गयी मंजिल की दूरी चाह रह गयी अधूरी,
आ गये हम कब्र तक दूरी घटाते घटाते,
इश्क़ में हारे हैं यारो हुस्न के मारे हैं यारो,
मिट गये हम उनके दिल से नफ़रत मिटाते मिटाते।

Updated: September 21, 2016 — 9:59 pm

Hindi Ghazal Poetry – Samandar Saare Sharaab Hote To Socho

समंदर सारे शराब होते तो सोचो, कितने फसाद होते;
हकीक़त सारे ख्वाब होते तो सोचो, कितने फसाद होते!
किसी के दिल में क्या छुपा है, बस ये खुदा ही जानता है;
दिल अगर बे नक़ाब होते तो सोचो, कितने फसाद होते!
थी ख़ामोशी फितरत हमारी, तभी तो बरसों निभा गए;
अगर हमारे मुंह में भी जवाब होते तो सोचो, कितने फसाद होते!
हम अच्छे थे पर, लोगों की नज़र मे रहे बुरे;
कहीं हम सच में खराब होते तो सोचो, कितने फसाद होते!

Updated: September 21, 2016 — 9:59 pm
Page 1 of 3123







DilSeDilTak.co.in © 2015