Inkaar Hindi Shayari – ज़ख़्म इतने गहरे हैंइज़हार क्या

ज़ख़्म इतने गहरे हैं,इज़हार क्या करें
हम खुद निशाना बने,इंकार क्या करें
हमने आँखों के दरवाज़े खुले रखे हैं
अब इससे ज़्यादा इंतज़ार क्या करे

Inkaar Hindi Shayari – जी भर गया है तो

जी भर गया है तो बता दो
हमें इनकार पसंद है इंतजार नहीं…!

Inkaar Hindi Shayari – लोग पढ़ ही लेंगें आपकी

लोग पढ़ ही लेंगें आपकी आँखों में मेरी मोहब्बत;
चाहे कर दो इनकार यूँ ही अनजान होकर।

1 2