DilSeDilTak.co.in

Shayari, SMS, Quotes, Jokes And More....

loading...

Category: Khamoshi Shayari

Khamoshi Hindi Shayari – लफ़्ज़ों के बोझ से थक

लफ़्ज़ों के बोझ से थक जाती है ज़ुबाँ कभी-कभी,
पता नहीं ख़ामोशी मज़बूरी है या समझदारी


Advertisements
Loading...

Updated: April 26, 2017 — 2:11 pm

Khamoshi Hindi Shayari – तेरे रुखसार पर ढलते

Advertisements


तेरे रुखसार पर ढलते,
ये शाम के किस्से….
ख़ामोशी में पढ़ा हुआ,
कोई कलमा हो जैसे….!!

Updated: April 10, 2017 — 10:54 am

Khamoshi Hindi Shayari – उम्र ग़ुज़ारी हैं हमने तुम्हारी ख़ामोशी

Advertisements


उम्र ग़ुज़ारी हैं हमने
तुम्हारी ख़ामोशी पढते हुए….

अब एक उम्र गुज़ार देंगे
तुम्हें महसूस करते हुए…..!!

Updated: January 27, 2017 — 4:22 pm
Page 1 of 212
Loading...
DilSeDilTak.co.in © 2015