DilSeDilTak.co.in

Shayari, SMS, Quotes, Jokes And More....






Category: Khamoshi Shayari

Khamoshi Hindi Shayari – लफ़्ज़ों के बोझ से थक

लफ़्ज़ों के बोझ से थक जाती है ज़ुबाँ कभी-कभी,
पता नहीं ख़ामोशी मज़बूरी है या समझदारी

Updated: April 26, 2017 — 2:11 pm

Khamoshi Hindi Shayari – ख़ामोशी के कोहरे को चीरती

ख़ामोशी के कोहरे को चीरती
गुनगुनी धूप सी तुम्हारी मुस्कान

Updated: February 2, 2017 — 4:06 pm






DilSeDilTak.co.in © 2015