DilSeDilTak.co.in

Shayari, SMS, Quotes, Jokes And More....

Manzil Shayari

Manzil Hindi Shayari – ये भी क्या मंज़र है

ये भी क्या मंज़र है बढ़ते हैं न रुकते हैं क़दम
तक रहा हूँ दूर से मंज़िल को मैं मंज़िल मुझे


Advertisements
loading...

Updated: March 21, 2017 — 4:49 pm

Manzil Hindi Shayari – मंज़िल हमारी हमारे करीब से

Advertisements

मंज़िल हमारी, हमारे करीब से गुज़र गयी
हम दूसरों को रास्ता दिखाने में रह गए

Updated: February 2, 2017 — 4:06 pm

Two Lines Shayari – हम खुद तराशते हैं मंजिल के संग ए मील 

Advertisements
Advertisements
Loading...

हम खुद तराशते हैं मंजिल के संग ए मील 
हम वो नहीं हैं जिन को ज़माना बना गया

Updated: January 10, 2015 — 2:55 pm

2 Line Shayari – पहुँचे जिस वक़्त मंज़िल पे तब ये जाना

Advertisements

पहुँचे जिस वक़्त मंज़िल पे तब ये जाना
ज़िन्दगी रास्तों में बसर हो गई

Updated: January 10, 2015 — 2:55 pm
loading...
DilSeDilTak.co.in © 2015