DilSeDilTak.co.in

Shayari, SMS, Quotes, Jokes And More....






Category: Manzil Shayari

Manzil Hindi Shayari – मैं अकेला ही चला था

मैं अकेला ही चला था “जानिब-ए-मंज़िल”
” मगर”
लोग साथ आते गये और “कारवाँ” बनता गया.

Updated: May 4, 2017 — 11:02 am

Manzil Hindi Shayari – ये राहें ले ही जाएँगी

ये राहें ले ही जाएँगी मंज़िल तक
हौसला रख
कभी सुना है कि अंधेरों ने
सवेरा ना होने दिया ?

Updated: March 21, 2017 — 4:51 pm






DilSeDilTak.co.in © 2015