Ranjish Hindi Shayari – Ik zra si ranjish se

Ik zra si ranjish se
Shaq ki zard tehni par
Phool bad’gumani k
Iss tarha se khiltay hain
Zindagi se pyaaray bhe
Ajnabi se lagtay hain

Ranjish Hindi Shayari – फ़ुरसत ..मिले जब भीतो रंजिशे

फ़ुरसत ..मिले जब भी,तो रंजिशे भुला देना,
कोन जाने साँसो कि..मोहलत कब तक हे…

Ranjish Hindi Shayari – रंजिश है अगर दिल में

रंजिश है अगर दिल में कोई तो खुल कर गिला करो,
मेरी फितरत ऐसी है कि मैं फिर भी मुस्कुरा कर मिलूँगी—!!!