DilSeDilTak.co.in

Shayari, SMS, Quotes, Jokes And More....




Category: Zakhm Shayari

Zakhm Hindi Shayari – जब लगा था तीर तब

जब लगा था तीर तब इतना दर्द न हुआ
ज़ख्म का एहसास तब हुआ
जब कमान देखी अपनों के हाथ में……

Updated: April 18, 2017 — 10:33 am

Zakhm Hindi Shayari – तुमने तीर चलाया तो कोई

तुमने तीर चलाया तो कोई बात न थी,
ज़ख्म मैंने जो दिखाया तो बुरा मान गए…?

Updated: April 10, 2017 — 10:54 am

Zakhm Hindi Shayari – जीवन में ज़ख्म बड़े नहीं

जीवन में ज़ख्म बड़े नहीं होते हैं;
उनको भरने वाले बड़े होते हैं;
रिश्ते बड़े नहीं होते हैं;
लेकिन रिश्तों को निभाने वाले बड़े होते हैं।

Updated: March 21, 2017 — 4:51 pm

Zakhm Hindi Shayari – मरहम की ज़रूरत नही है

मरहम की ज़रूरत नही है मुझे,
ज़ख्म देकर कम से कम हाल तो पूछ लिया करो…

Updated: March 21, 2017 — 4:51 pm

Zakhm Hindi Shayari – ये दिल हर ज़ख्म सहन

ये दिल हर ज़ख्म सहन कर सकता था
पता नही तुम्हारे दिए हुए ज़ख्म क्यों नही सह पाया

Updated: March 21, 2017 — 4:50 pm

Zakhm Hindi Shayari – ज़ख्म हज़ारो है सीने में

ज़ख्म हज़ारो है सीने में एक दिन तो भर जायेगे
आँखों से भी मत पूछना ये अश्क किसने दिए
नहीं तो कई अपने बिछड़ जायेंगे

Updated: March 21, 2017 — 4:50 pm

Zakhm Hindi Shayari – ज़ख्म ताज़ा हैं अभी यूँ

ज़ख्म ताज़ा हैं अभी यूँ न लगाओ मरहम
दर्द बढ़ जाता है कुछ और भी सहलाने से..

Updated: February 17, 2017 — 11:04 am

Zakhm Hindi Shayari – बैठ कर उदास लम्हों में

बैठ कर उदास लम्हों में ये सोचता हूँ
दुश्मनी भी नही किसी से फिर ज़ख्म गहरे क्यों हुए

Updated: February 17, 2017 — 11:04 am

Zakhm Hindi Shayari – काश बनाने वाले ने दिल

काश बनाने वाले ने दिल कांच के बनाये होते
तोड़ने वाले के हाथ में ज़ख्म तो आये होते

Updated: January 27, 2017 — 4:20 pm

Zakhm Hindi Shayari – मेरी चाहत को मेरे हालात

मेरी चाहत को मेरे हालात के तराजू में कभी मत तोलना,
मैंने वो ज़ख्म भी खाए है जो मेरी किस्मत में नहीं थे.

Updated: January 27, 2017 — 4:20 pm
Page 1 of 212







DilSeDilTak.co.in © 2015