DilSeDilTak.co.in

Shayari, SMS, Quotes, Jokes And More....

Category: Stories

Very Inspiring Short Hindi Story With Anmol Vachan And Suvichar – वसीयत और नसीहत

​*वसीयत और नसीहत*
एक दौलतमंद इंसान ने अपने बेटे को वसीयत देते हुए कहा, 
*”बेटा मेरे मरने के बाद मेरे पैरों में ये फटे हुऐ मोज़े (जुराबें) पहना देना, मेरी यह इक्छा जरूर पूरी करना ।*
पिता के मरते ही नहलाने के बाद, बेटे ने पंडितजी से पिता की आखरी इक्छा बताई ।
*पंडितजी ने कहा: हमारे धर्म में कुछ भी पहनाने की इज़ाज़त नही है ।*
पर बेटे की ज़िद थी कि पिता की आखरी इक्छ पूरी हो ।
बहस इतनी बढ़ गई की शहर के पंडितों को जमा किया गया, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला ।
*इसी माहौल में एक व्यक्ति आया, और आकर बेटे के हाथ में पिता का लिखा हुअा खत दिया, जिस में पिता की नसीहत लिखी थी*
“मेरे प्यारे बेटे”
*देख रहे हो..? दौलत, बंगला, गाड़ी और बड़ी-बड़ी फैक्ट्री और फॉर्म हाउस के बाद भी, मैं एक फटा हुअा मोजा तक नहीं ले जा सकता ।*
*एक रोज़ तुम्हें भी मृत्यु आएगी, आगाह हो जाओ, तुम्हें भी एक सफ़ेद कपडे में ही जाना पड़ेगा ।*
*लिहाज़ा कोशीष करना,पैसों के लिए किसी को दुःख मत देना, ग़लत तरीक़े से पैसा ना कमाना, धन को धर्म के कार्य में ही लगाना ।*
*क्यूँकि अर्थी में सिर्फ तुम्हारे कर्म ही जाएंगे”।*
*इसको गोर से पढ़ो दोस्तों* 
इन्सान फिर भी धन की लालसा नहीं छोड़ता, भाई को भाई नहीं समझता, इस धन के कारण भाई मां बाप सबको भूल जाता है अंधा हो जाता है

Updated: July 28, 2016 — 10:20 pm

Heart Touching Inspiring Husband Wife Story – जंग अगर अपनों से हो तो हार जाना चाहिए

एक पत्नी ने अपने पति से आग्रह किया कि वह उसकी छह कमियां बताएं जिन्हें सुधारने से वह बेहतर पत्नी बन जाए।

पति यह सुनकर हैरान रह गया और असमंजस की स्थिति में पड़ गया. उसने सोचा कि मैं बड़ी आसानी से उसे 6 ऐसी बातों की सूची थमा सकता हूं , जिनमें सुधार की जरूरत थी ।

और ईश्वर जानता है कि वह ऐसी 60 बातों की सूची थमा सकती थी, जिसमें पति को सुधार की जरूरत थी.

परंतु पति ने ऐसा नहीं किया और कहा – मुझे इस बारे में सोचने का समय दो मैं तुम्हें सुबह इसका जबाब दे दूंगा।

पति अगली सुबह जल्दी ऑफिस गया और फूल वाले को फोन करके उसने अपनी पत्नी के लिए छह गुलाबों का तोहफा भिजवाने के लिए कहा जिसके साथ यह चिट्ठी लगी हो, “मुझे तुम्हारी छह कमियां नहीं मालूम, जिनमें सुधार की जरूरत है. तुम जैसी भी हो मुझे बहुत अच्छी लगती हो.”

उस शाम पति जब आफिस से लौटा तो देखा कि उसकी पत्नी दरवाज़े पर खड़ी उसका इंतज़ार कर रही थी और उसकी आंखों में सू भरे हुए थे। यह कहने की जरूरत नहीं कि उनके जीवन की मिठास कुछ और बढ़ गई थी।

पति इस बात पर बहुत खुश था कि पत्नी के आग्रह के बावजूद उसने उसकी छह कमियों की सूची नहीं दी थी।
.
.
.
.
सार ये है कि- जिंदगी का ये हुनर भी आज़माना चाहिए,
जंग अगर अपनों से हो तो हार जाना चाहिए..

जनहित में चेतावनी: पत्नी पर हमेशा जोक्स ठीक नहीं, कभी-कभी अच्छा खाने-पीने और घर की सुख-शांति के लिए सीरियस भी हो जाना चाहिये…

Advertisements

Loading...

Updated: December 24, 2015 — 12:03 pm

Heart Touching Hindi Short Story On Girl’s Ways Of Dressing

Advertisements

Heart Touching Hindi Short Story On Girl’s Ways Of Dressing…

कृप्या सभी लडकीयां इसे ध्यान से पढें
*********************************
एक लड़की से मैने पुछा:- बहन तुमने यह Artificial Ear Rings, Locket और Ring क्यों पहनी है? तुम्हारे Branded कपड़ो से तो तुम गरीब नहीं लग रही !
लड़की बोली:- भाई आज कल असली गहने पहनने का जमाना नहीं, गली गली चोर घुम रहे है। घरवाले पुलिस वाले हर कोई मना करता है असली पहनने को।
मैने पूछा बहन पर कोई तुम्हें ऐसा करने से कैसे रोक सकता है, जबकी यह तुम्हारा अधिकार (Rights) है। कानून भी तुम्हे ऐसा करने से नहीं रोक सकता। फिर तुम पर एैसी पाबंदी क्यों?
लड़की बोली:- तुम पागल तो नही हो गए। आज कल गली-गली चोर बदमाश घूम रहे है, क्या मै इतने कीमती गहना ऐसे ही लुटवाती रहुँ।
अधिकार (Rights) तो तुम्हे याद है पर कर्तव्य (Duty) भूल गए।
मैने बोला:- बहन मै तुम्हे यही बताना चाहता था। तुम्हारे शरीर/तुम्हारी इज्जत से कीमती गहना कोई नहीं। सोने चांदी हीरे के गहने तो तुम छुपा कर रखती हो पर अनमोल गहने की तुम नुमाइश कर रही हो, जबकी तुम्हे भी पता है गली
गली दरिंदे हैवान घूम रहे है। छोटे कपड़े पहनना तुम्हारा अधिकार (Rights) है, पर जैसे तुम सोना चांदी के गहनों को संभालना अपना कर्तव्य (Duty) समझती हो वैसे ही इज्जत को पर्दे में रखना भी तुम्हारा कर्तव्य (Duty) है। चोर हो या
बलात्कारी उन्हें शिक्षा/संस्कार/इज्जत से कुछ लेना देना नहीं। हमें खुद ही संभाल कर चलना पड़ेगा।
अपनी आँखों पर से पश्चमी सभ्यता (Western Culture) का चश्मा उतारना होगा। नारी के जरा से वस्त्र खींच लेने मात्र पर ” महाभारत ” लड़ने वाले आज देश की दुर्दशा देखिये…..!
” आज उसी नारी को दुपट्टा लेने को बोल दो तो ” महाभारत” हो जाती है ।।

Updated: November 25, 2015 — 5:20 pm

Mulla Nasruddin Short Hindi Story – मुल्ला नसीरूद्दीन की हाजिर जवाबी

एक बार मुल्ला नसीरूद्दीन ने एक आदमी से कुछ उधार लिया था। मुल्ला समय पर उधार चुका नहीं पाया और उस आदमी ने इसकी शिकायत बादशाह से कर दी। बादशाह ने मुल्ला को दरबार में बुलाया।

मुल्ला बेफिक्री के साथ दरबार पहुंचा। मुल्ला के दरबार पहुंचते ही वह आदमी बोला – बादशाह सलामत, मुल्ला ने बहुत महीने पहले मुझसे 500 दीनार बतौर कर्ज लिए थे और अब तक नहीं लौटाए। मेरी आपसे दरख्वास्त है कि बिना किसी देरी के मुझे मेरा उधार वापस दिलाया जाए।

यह सुनने के बाद मुल्ला ने जवाब में कहा – हुजूर, मैंने इनसे पैसे लिए थे मैं यह बात मानता हूं और मैं उधार चुकाने का इरादा भी रखता हूं। अगर जरूरत पड़ी तो मैं अपनी गाय और घोड़ा दोनों बेचकर भी इनका उधार चुकाऊंगा।

तभी वह आदमी बोला – यह झूठ कहता है हुजूर इसके पास न तो कोई गाय है और न ही कोई घोड़ा। अरे इसके पास ना तो खाने को है और न ही एक फूटी कौड़ी है।

इतना सुनते ही मुल्ला नसीरूद्दीन बोला – जहांपनाह! जब यह जानता है कि मेरी हालत इतनी खराब है, तो मैं ऐसे में जल्दी इसका उधार कैसे चुका सकता हूं। जब मेरे पास खाने को ही नहीं है तो मैं उधार दूंगा कहां से।

बादशाह ने यह सुना तो मामला रफा-दफा कर दिया। अपनी हाजिर जवाबी से मुल्ला नसीरूद्दीन एक बार फिर बच निकलने में कामयाब हो गया।

Updated: July 23, 2015 — 10:27 am

Mulla Nasruddin Short Hindi Story – मुल्ला नसीरुद्दीन और पडोसी

मुल्ला नसीरुद्दीन एक दिन अपने घर के बाहर खड़ा था तो उसका एक पडोसी उसके पास अपनी समस्या को लेकर आता है और मुल्ला से कहता है मुल्ला मेरे साथ एक बहुत बड़ी समस्या है और तुम एक बुद्धिमान व्यक्ति हो इसलिए मुझे लगता है तुम मेरी समस्या का समाधान कर सकते हो |

मुल्ला ने उस व्यक्ति को कहा ‘बताओ तुम्हारी समस्या क्या है ‘? उस व्यक्ति ने कहा मेरे घर में जगह की बहुत समस्या है और मैं और मेरी पत्नी तीन बच्चो के साथ मेरी सास भी है जिसकी वजह से हम सब बेहद परेशान है | मुल्ला ने कोई बात नहीं चिंता मत करो एक बात बताओ क्या तुम्हारे घर में मुर्गे है |

‘हाँ है ‘ उस व्यक्ति ने जवाब दिया तो मुल्ला ने कहा उन्हें भी अपने रहने वाली जगह में छोड़ दो इस पर उस व्यक्ति ने मुल्ला से कहा कि पहले से ही मेरे घर में बहुत कम जगह है इसलिए ऐसा करने से और भी कम हो जाएगी | “तुम्हे मेरी सलाह से कोई समस्या है तो मत मानो ” मुल्ला ने कहा |

वह व्यक्ति जानता था मुल्ला एक बुद्धिमान व्यक्ति है तो कुछ न कुछ तो कारण है इसलिए ऐसा करने को कहा रहा है इस पर उस व्यक्ति ने मुल्ला के कहे अनुसार वो कर दिया | मुल्ला ने अगले दिन आने को कहा |

अगले दिन वो व्यक्ति मुल्ला के पास आया और कहने लगा कुछ भी फर्क नहीं पड़ा उलटे हालत और बुरे हो गये है अब और भी जगह कम हो गयी है तो मुल्ला ने उसे कहा कि अब एक काम और करो अपने गधो को भी घर में खुला छोड़ दो वह आदमी परेशान हुआ लेकिन उसने वो भी किया और अगले दिन आकर कहा हालत और भी बुरे हो गया है अब तो बिलकुल भी जगह नहीं बची है इस पर मुल्ला ने कहा एक आखिरी काम और करो फिर तुम्हारी समस्या खत्म हो जाएगी और उसने बकरियों को भी बाड़े से लाकर खुला छोड़ने को कहा तुम उस आदमी को बड़ा गुस्सा आया और कहने लगा कि ऐसा कैसे हो सकता है तो भी मुल्ला के कहने पर उसने किया |

अगले दिन वो आदमी मुल्ला को बुरा भला कहने को आया तो मुल्ला ने उस से कहा अभी एक आखिरी काम करो तुम सब को घर से बाहर बड़े में जानवरों को बांध दो और कल आकर मुझे बताना कि घर के हालत कैसे है इस पर वह व्यक्ति चला गया |

अगले दिन वो बड़ा ही खुश होकर आया कि मुल्ला हालाँकि जगह तो उतनी है लेकिन फिर भी ऐसा लगता है कि अब घर खुला खुला सा हो गया है और हम अब सही से रह सकते है | तुम्हारे प्लान ने बहुत सही से काम किया है अब मैं समझ गया और वह व्यक्ति खुश होकर वंहा से चला गया |

ये कहानी आपको कैसी लगी इस बारे में अपने विचार हमे जरूर बताएं |

Updated: July 23, 2015 — 10:27 am

Mulla Nasruddin Short Hindi Story – क्या गारंटी है ?

Advertisements

loading...

क्या गारंटी है – एक बार एक देश के राजा ने मुल्ला नसीरूदीन को बुलाया और उस से पूछा कि मुल्ला तुम्हारे बारे में मैंने बहुत सुना है कि तुम बहुत चालक हो और बुद्दिमान भी इसलिए क्या तुम एक काम कर सकते हो जो मैं तुमसे कहने वाला हूँ |

इस पर मुल्ला ने कहा मैं कुछ भी कर सकता हूँ बस आप एक बार आज्ञा दे | इस पर राजा ने कहा क्या तुम अपने इस प्रिय गधे को पढना सिखा सकते हो इस पर मुल्ला ने कहा हाँ क्यों नहीं मैं इसे आराम से सिखा सकता हूँ | इस पर राजा ने कहा ‘बकवास मत करो ‘ क्या गारंटी है तुम ऐसा कर सकते हो |

मुल्ला ने जवाब दिया कि एक काम कीजिये आप मुझे पचास हजार स्वर्ण मुद्राएँ दीजिये उसके बाद मैं गारंटी लेता हूँ कि आठ साल के अंदर मैं इस गधे को पढना सिखा सकता हूँ इस पर राजा ने कहा अगर तुम ऐसा कर पाने में सफल नहीं होते हो तो मैं तुम्हे जेल में डाल दूंगा और तुम्हे रोज टॉर्चर किया जायेगा | मुल्ला ने हामी भर ली और वंहा से चला गया |

घर आने के बाद मुल्ला से उसके एक दोस्त ने कहा ‘ मुल्ला तुमने ये क्या किया ?’ सब जानते है तुम ऐसा नहीं कर सकते फिर भी तुमने राजा को यह वचन दे दिया है क्या तुम्हे जेल जाने से डर नहीं लगता मुल्ला ने सहज भाव से उत्तर दिया तुम इतना ज्यादा मत सोचो क्योंकि आठ साल में तो या तो हमारा राजा नहीं रहेगा और हो सकता है मेरा गधा भी तब तक नहीं रहे लेकिन फिर भी अगर ऐसा होता है कि सात साल तक दोनों में से कोई भी नहीं जाता तो मेरे पास पूरा एक साल है कि मैं सोच सकता हूँ राजा की सज़ा से कैसे बचा जा सकता है |

मुल्ला नसीरूदीन की ये कहानी एक मजाक से अधिक हमे यही सिखाती है कि बहुत अधिक भविष्य के बारे में चिंता नहीं करनी चाहिए और वर्तमान में जीना चाहिए |

Updated: July 23, 2015 — 10:27 am

Mulla Nasruddin Short Hindi Story – अंगूठी और मुल्ला नसरुद्दीन

एक बार मुल्ला नसरुद्दीन के एक मित्र जो कि व्यापार करने के लिए किसी दूसरे देश को जा रहा था उसने मुल्ला से कहा कि क्यों नहीं तुम अपनी ये अंगूठी मुझे दे देते ताकि जब तक मैं तुमसे दूर रहूँगा तो जब जब इस अंगूठी को देखूंगा मुझे तुम्हारी याद आयेगी ।
इस पर मुल्ला ने कहा देखो अगर मैं तुम्हे अंगूठी देता हूँ और तुम इसे खो दोगे तो निश्चित ही मुझे भूल जाओगे और क्या ये अच्छा नहीं है मैं तुम्हे मना कर देता हूँ और तब जब भी तुम अपनी ऊंगली को खाली खाली देखोगे तो तुम्हे याद आयेगा कि तुमने मुझसे अंगूठी मांगी थी लेकिन मैंने तुम्हे दी नहीं थी इसलिए तुम पहले की अपेक्षा कंही अधिक मुझे याद रख पाओगे |

Updated: July 23, 2015 — 10:27 am

Mulla Nasruddin Short Hindi Story – मुल्ला नसरुद्दीन और एक फ़कीर

Advertisements

एक बार मुल्ला नसरुदीन के गाँव के बाहर एक फ़कीर आया जिसने ये दावा किया कि वो किसी भी अनपढ़ को अपनी विद्या से कुछ ही पलों में साक्षर कर सकता है जिसके बाद वो कोई भी किताब या साहित्य को पढ़ सकता है |

मुल्ला ने ये सुन तो दौड़ा दौड़ा वंहा पहुंचा और फ़कीर से बोला कि क्या आप मुझे साक्षर कर सकते है | इस पर फ़कीर ने कहा हाँ क्यों नहीं इधर आओ | मुल्ला पास गया | फ़कीर ने मुल्ला के सर पर हाथ रखा और कुछ देर बाद उस से बोला कि अब जाओ और कुछ पढो |

मुल्ला अपने गाँव लौटा और आधे घंटे बाद वापिस हांफता हुआ आया | क्या हुआ इतने बदहवास क्यों हो और क्या तुम अब पढ़ सकते हो ? लोग पूछने लगे तो मुल्ला ने जवाब दिया “हाँ मैं पढ़ सकता हूँ पर मैं ये बताने नहीं आया हूँ मुझे ये बताओ वो ढोंगी फ़कीर कंहा है ?”

लोग कहने लगे फ़कीर ने तुम्हे कुछ ही मिनटों में पढने लायक बना दिया और तुम उन्ही को ढोंगी कह रहे हो शायद तुम पागल हो गये तो तो मुल्ला ने जवाब दिया मैंने जाते ही जो किताब पढ़ी उसमे लिखा हुआ है “सभी फ़कीर ढोंगी और बदमाश होते है ” इसलिए मैं उस फ़कीर को ढूंढ रहा हूँ | सब लोगो ने माथा पीट लिया |

Updated: July 23, 2015 — 10:27 am

Mulla Nasruddin Short Hindi Story – मुल्ला झील में

एक दिन मुल्ला नसीरुद्दीन अपने दोस्त के साथ कंही जा रहा था तो जब वो एक झील के किनारे से गुजर रहे होते है मुल्ला का पैर फिसल जाता है और वो झील में गिरते गिरते बचा क्योंकि उसके आगे आगे चल रहे उसके दोस्त ने उसे गिरने से बचा लिया |

वो दिन तो ठीक लेकिन उसके बाद जब वो आपस में मिलते तो इस बात का जिक्र उसका दोस्त जरुर कर देता जिसकी वजह से मुल्ला नसीरुद्दीन परेशान हो गया और सोचने लगा इस अहसान से मुक्ति कैसे प्राप्त की जाये | इस पर मुल्ला को एक विचार आया |

मुल्ला एक दिन अपने दोस्त को उसी झील पर ले गया और वंहा ले जाकर खुद समेत कपड़ो और जूतों के उस झील में खुद गया और जब वह पूरी तरह भीग गया तो अपने दोस्त को चिल्लाकर कहने लगा देखो अगर तुमने उस दिन मुझे नहीं बचाया होता झील में गिरने से तो अधिक से अधिक मेरी ये हालत हो सकती थी | इसलिए भगवान के लिए अब उस बारे में बात करना बंद करो उस बारे में याद दिलाना बंद कर दो |

इस कहानी के द्वारा मुल्ला नसीरुद्दीन के हास्यास्पद कृत्य से हम ये समझ सकते है कि जिन्दगी में बहुत से ऐसे सौहार्द पूर्ण काम होते है जो हम किसी के लिए करते है या कोई हमारे लिए करता है तो इसका मतलब ये नहीं है हम उसके बारे में अहसान की तरह उसे जताए क्योंकि ऐसे में आप चाहे कितना भी कुछ अच्छा कर लें उसका महत्व खत्म हो जाती है |

ये कहानी आपको कैसी लगी इस बारे में नीचे कमेन्ट करे |

Updated: July 23, 2015 — 10:27 am

Mulla Nasruddin Short Hindi Story – तीन बच्चे और मुल्ला नसीरुद्दीन

मुल्ला नसीरुद्दीन की पत्नी गर्भवती हुई और उसने मुल्ला नसीरुद्दीन से इस बारे में कहा कि अब हमे थोड़ी सावधानी बरतनी चाहिए क्योंकि कभी भी प्रसव हो सकता है ।

एक रात को दोनों सोये हुए थे और मुल्ला नसीरुद्दीन की पत्नी ने मुल्ला नसीरुद्दीन की और मुहं करके कहा कि मुझे प्रसव पीड़ा हो रहा है इस पर मुल्ला झट से उठा और जल्दी से जाकर मोमबत्ती जला ली । क्योंकि वह अपने नये जन्मे बच्चे को देखना चाहता था ।

थोड़ी देर में उसकी पत्नी ने एक बच्चे को जन्म दिया तो मुल्ला क्या देखता है कुछ ही पलों के बाद उसे दूसरे बच्चे की किलकारी सुनाई दी और ऐसे ही थोड़े समय के अंतराल के बाद उसकी पत्नी ने तीसरे बच्चे को जन्म दिया ।

तीनो बच्चो को देखने के बाद मुल्ला नसीरुद्दीन ने मोमबती बुझा दी तो उसकी पत्नी ने उस से सवाल किया कि तुमने ऐसा क्यों किया ?

मुल्ला नसीरुद्दीन ने जवाब दिया तुमने देखा नहीं जब तक मोमबत्ती जल रही थी तुमने एक के बाद एक तीन बच्चो को जन्म दिया अगर मैं मोमबती न बुझाता तो न जाने कितने बच्चे और जन्म लेते ।

Updated: July 23, 2015 — 10:27 am

Mulla Nasruddin Short Hindi Story – तलाक और मुल्ला नसरुद्दीन

एक दिन मुल्ला नसरुद्दीन गाँव के मुखिया के पास गया और बोला कि मैं अपनी पत्नी के रोज़ रोज़ के तानों से तंग आ गया और बोला कि मैं चाहता हूँ कि मैं अब उस से तलाक ले लूँ ।

मुखिया ने मुल्ला नसरुद्दीन से उसकी पत्नी का नाम पूछा तो मुल्ला नसरुद्दीन ने जवाब दिया “मैं नहीं जानता ।”

मुखिया हैरान रह गया और उसने मुल्ला नसरुद्दीन से पूछा कि तुम लोगो की शादी को कितना वक़्त हो गया है इस पर मुल्ला नसरुद्दीन ने जवाब दिया “ये कोई पांच साल से कुछ ऊपर हो गये है ।”

मुखिया ने फिर हैरान होकर पूछा इतनी लम्बी अवधि में तुम अपनी पत्नी का नाम तक नहीं जान पाए तो मुल्ला नसरुद्दीन ने सहज भाव से जवाब दिया “हाँ ये सही है मुझे नहीं पता ।”

मुखिया ने मुल्ला नसरुद्दीन से पूछा कि ऐसा क्यों है ? तो मुल्ला ने कहा वो इसलिए क्योंकि मेरा मेरी पत्नी के साथ कोई सामाजिक नाता नहीं रहा है कभी भी ।”

बेशक बहुत से लोग इस कहानी को एक मजाक ही समझने की भूल करेंगे लेकिन ऐसा नहीं है मुल्ला यंहा पर पागल नहीं हो गया है उसने बड़े ही विनोदपूर्ण ढंग से पति पत्नी के रिश्ते की गहराई को बयाँ किया है चूँकि पति पत्नी का नाता ऐसा नहीं है जिसे एक सामाजिक रिश्ते के तौर पर ही निभाया जाये जबकि यह एक एक मनुष्य की पूर्णता है जब वो एक स्त्री के साथ होता है । ये केवल एक कहानी नहीं है बल्कि जिन्दगी का एक बहुत महत्वपूर्ण सबक है बेहद संजीदगी के साथ ।

Updated: July 23, 2015 — 10:27 am

Mulla Nasruddin Short Hindi Story – मुल्ला नसरुद्दीन की नई पत्नी और कोर्ट

मुल्ला नसरुद्दीन की पहली पत्नी के गुजर जाने के बाद उसने दूसरी शादी की । एक दिन वो दोनों पति पत्नी सो रहे थे कि उसकी नई पत्नी ने मुल्ला नसरुद्दीन से कहा कि “क्या तुम जानते हो मेरा पहले वाला पति बहुत आदर्श पति था ।”

मुल्ला नसरुद्दीन से ये सहा नहीं गया उसने जवाब दिया ” मेरी पहले वाली पत्नी तुमसे अधिक सुंदर और भली थी ।”

मुल्ला नसरुद्दीन की पत्नी ने जवाब दिया “मेरे पहले पति का कपडे पहनने का सलीका बहुत सही था ।”

मुल्ला बोला मेरी पहले वाली पत्नी भी बहुत कमाल का खाना बनाती थी ।

मुल्ला नसरुद्दीन की पत्नी बोली मेरे पहले वाला पति गणित में बहुत तेज था ।

मुल्ला बोला मेरी पत्नी भी गजब की प्रबंधक थी और घर के सारे काम काज बड़े अच्छे से सम्भाल लेती थी और उसके होते मुझे लेशमात्र भी किसी चीज़ के विषय में कभी सोचना नहीं पड़ा ।

इस प्रकार एक दूसरे के पिछले साथी के बारे में उनका विवाद काफी बढ़ गया तो मुल्ला ने अपनी पत्नी को धक्का देकर बेड से गिरा दिया और उसे बहुत चोटें आई ।

इस पर मुल्ला नसरुद्दीन की पत्नी उसे गाँव के पंचायत में ले गयी और जज से न्याय की गुहार की । तो जज ने दोनों को अपना अपना पक्ष रखने को कहा । मुल्ला की पत्नी ने उसे पूरी बात बताई तो जज अब मुल्ला नसरुद्दीन की और मुखातिब हुआ और बोला कि बताओ अब इस विषय में तुम्हे क्या कहना है ।

मुल्ला ने बड़े धीरज से जवाब दिया हम दोनों बड़े आराम से तब तक बेड पर सो रहे थे जब तक कि इसका पहले वाला पति और मेरी पहले वाली पत्नी बीच में नहीं आ गयी । फिर बेड हम दोनों के लिए छोटा पड़ गया और इसने नीचे गिर कर चोट खायी ।

Updated: July 23, 2015 — 10:27 am

Mulla Nasruddin Short Hindi Story – ख़ुशी की तलाश और मुल्ला नसरुद्दीन

एक दिन मुल्ला नसरुद्दीन गाँव के बाहर बैठा हुआ था कि किसी दूसरे शहर से एक आदमी से उसकी भेंट हुई ।मुल्ला नसरुद्दीन ने उसके आने का प्रयोजन पूछा । कुछ देर वार्तालाप के बाद उस व्यक्ति ने मुल्ला नसरुद्दीन से कहा कि मेरे पास सब कुछ है “पैसा धन दौलत और खुशियों के सारे साधन भी” लेकिन फिर भी मैं खुश नहीं हूँ मैं अक्सर ख़ुशी की तलाश में निकल पड़ता हूँ ।

तो मुल्ला ने उस से सवाल किया तो क्या वो तुम्हे मिली । नहीं ! उस व्यक्ति ने मुल्ला को जवाब दिया ।

इस पर मुल्ला नसरुद्दीन ने बातों ही बातों में उसके हाथ से उसके बैग को छीना और वंहा से नो दो ग्यारह हो गया वो आदमी मुल्ला के पीछे जब तक दौड़ा जब तक कि मुल्ला नसरुद्दीन उसकी आँखों से ओझल नहीं हो गया ।

मुल्ला नसरुद्दीन ने थोडा आगे जाकर बैग को सड़क पर रखा जन्हा से वो उस आदमी को दिखाई दे सके और खुद एक पेड़ के नीचे छुप कर बैठ गया । थोड़े देर बाद उस व्यक्ति ने उसे ढूंढ लिया और उसे पीटने ही वाला था कि मुल्ला नसरुद्दीन ने उस बैग की तरफ उसे इशारा किया तो उस आदमी के चेहरे पर मुस्कान फ़ैल गयी । और बैग मिल जाने की ख़ुशी में वो खुशी से नाचने लगा ।

कुछ देर बाद उस व्यक्ति ने मुल्ला नसरुद्दीन से ऐसा करने की वजह पूछी तो मुल्ला नसरुद्दीन ने उसे जवाब दिया यह एक तरीका था तुम्हारी खुशियों से मुलाकात करवाने का जबकि तुम तो कह रहे थे तुम्हे आज तक वो आनंद नहीं मिला जो तुम चाहते थे जबकि अभी तो तुम ख़ुशी से नाच रहे थे ।

इस पर उस व्यक्ति को अहसास हुआ कि सच में खुशिया तो हमारे आस पास ही है हम केवल फालतू की भागदौड़ में जिन्दगी को खो देते है जबकि अगर हम अपने आस पास ही खुशियों की तलाश करे तो जान जायेंगे कि वो हमसे दूर कभी थी ही नहीं ।

Updated: July 23, 2015 — 10:27 am

Mulla Nasruddin Short Hindi Story – आधा बच्चा मेरा आधा तुम्हारा


Advertisements

मुल्ला नसीरुद्दीन और उसकी पत्नी रात को सो रहे थे । देर रात को मुल्ला नसीरुद्दीन का एक बच्चा रोने लगा इस पर मुल्ला की पत्नी ने कहा “जाओ और बच्चे को संभालो वो रो रहा है तुम्हे दिखाई नहीं देता ।” वह अकेले मेरा नहीं है आधा तुम्हारा भी है ।

इस पर मुल्ला नसीरुद्दीन ने नींद में ही जवाब दिया “तुम चाहो तो जाकर अपने आधे बच्चे को चुप करवा सकती हो क्योंकि मैं तो अपने वाले आधे बच्चे को रोते हुए देखना पसंद करता हूँ ।”

मुल्ला नसीरुद्दीन की पत्नी ने अपना माथा पीट लिया ।

Updated: July 23, 2015 — 10:27 am

Mulla Nasruddin Short Hindi Story – मुल्ला नसीरुद्दीन का गधा खो गया

एक बार मुल्ला नसीरुद्दीन का गधा खो गया | जो उसे बहुत ही प्रिय था । सब जगह दूंढा लेकिन फिर भी मुल्ला के हाथ निराशा ही लगी । गाँव के लोग भी मुल्ला नसीरुद्दीन की मदद के लिए आगे आये और पूरा गाँव खोज डाला गया लेकिन मुल्ला नसीरुद्दीन का गधा कंही नहीं मिला इस पर लोग भी हताश होकर कहने लगे गाँव में तो कंही नहीं है इसका मतलब तीर्थ यात्रा जाने वाले कारवें के साथ कंही निकल गया है सो उसे और खोजना भी व्यर्थ है कहकर वो अपने अपने घरों को चले गये ।

मुल्ला नसीरुद्दीन ने सोचा जब इतना खोज लिया है तो एक आखिरी उपाय और करलूं यह सोचकर वह अपने हाथों और पेरो के बल गधे के जैसे ही खड़ा हो गया और इधर उधर घूमने लगा और अपने घर मकान बगीचे का चक्कर लगा कर वह ठीक उसी गड्ढे के पास पहुँच गया जिसमे उसका प्रिय गधा गिरा हुआ उसे मिल गया ।

गाँव वाले सब हैरान हुए कहने लगे मुल्ला ये कौनसी तरकीब तुमने निकली हद ही हो गयी । तो मुल्ला कहने लगा जब आदमी बन गधे को खोजा तो कंही नही मिला तो सोचा कि गधे की कुंजी आदमी के पास तो है नहीं सोचकर मैं मन में भावना की मैं गधा हूँ और गधा होता तो कन्हा कन्हा जाता और कंहा दूसरे गधे को तलाश करता और मुझे मेरा गधा इस गड्ढे में पड़ा हुआ मिल गया । मुझे नहीं पता मैं कैसे इस गद्दे के पास आया लेकिन बस ये हो गया ।

Updated: July 23, 2015 — 10:27 am

Very Heart Touching Hindi Story On Father


Advertisements

बड़े गुस्से से मैं घर से चला आया ..

इतना गुस्सा था की गलती से पापा के ही जूते पहन के निकल गया
मैं आज बस घर छोड़ दूंगा, और तभी लौटूंगा जब बहुत बड़ा आदमी बन जाऊंगा …

जब मोटर साइकिल नहीं दिलवा सकते थे, तो क्यूँ इंजीनियर बनाने के सपने देखतें है …..
आज मैं पापा का पर्स भी उठा लाया था …. जिसे किसी को हाथ तक न लगाने देते थे …

मुझे पता है इस पर्स मैं जरुर पैसो के हिसाब की डायरी होगी ….
पता तो चले कितना माल छुपाया है …..
माँ से भी …

इसीलिए हाथ नहीं लगाने देते किसी को..

जैसे ही मैं कच्चे रास्ते से सड़क पर आया, मुझे लगा जूतों में कुछ चुभ रहा है ….
मैंने जूता निकाल कर देखा …..
मेरी एडी से थोडा सा खून रिस आया था …
जूते की कोई कील निकली हुयी थी, दर्द तो हुआ पर गुस्सा बहुत था ..

और मुझे जाना ही था घर छोड़कर …

जैसे ही कुछ दूर चला ….
मुझे पांवो में गिला गिला लगा, सड़क पर पानी बिखरा पड़ा था ….
पाँव उठा के देखा तो जूते का तला टुटा था …..

जैसे तेसे लंगडाकर बस स्टॉप पहुंचा, पता चला एक घंटे तक कोई बस नहीं थी …..

मैंने सोचा क्यों न पर्स की तलाशी ली जाये ….

मैंने पर्स खोला, एक पर्ची दिखाई दी, लिखा था..
लैपटॉप के लिए 40 हजार उधार लिए
पर लैपटॉप तो घर मैं मेरे पास है ?

दूसरा एक मुड़ा हुआ पन्ना देखा, उसमे उनके ऑफिस की किसी हॉबी डे का लिखा था
उन्होंने हॉबी लिखी अच्छे जूते पहनना ……
ओह….अच्छे जुते पहनना ???
पर उनके जुते तो ………..!!!!

माँ पिछले चार महीने से हर पहली को कहती है नए जुते ले लो …
और वे हर बार कहते “अभी तो 6 महीने जूते और चलेंगे ..”
मैं अब समझा कितने चलेंगे

……तीसरी पर्ची ……….
पुराना स्कूटर दीजिये एक्सचेंज में नयी मोटर साइकिल ले जाइये …
पढ़ते ही दिमाग घूम गया…..
पापा का स्कूटर ………….
ओह्ह्ह्ह

मैं घर की और भागा……..
अब पांवो में वो कील नही चुभ रही थी ….

मैं घर पहुंचा …..
न पापा थे न स्कूटर …………..
ओह्ह्ह नही
मैं समझ गया कहाँ गए ….

मैं दौड़ा …..
और
एजेंसी पर पहुंचा……
पापा वहीँ थे ……………

मैंने उनको गले से लगा लिया, और आंसुओ से उनका कन्धा भिगो दिया ..

…..नहीं…पापा नहीं…….. मुझे नहीं चाहिए मोटर साइकिल…

बस आप नए जुते ले लो और मुझे अब बड़ा आदमी बनना है..

वो भी आपके तरीके से …।।

“माँ” एक ऐसी बैंक है जहाँ आप हर भावना और दुख जमा कर सकते है…

और

“पापा” एक ऐसा क्रेडिट कार्ड है जिनके पास बैलेंस न होते हुए भी हमारे सपने पूरे करने की कोशिश करते है……..

 

मैं अपने पेरेंट्स से प्यार करता हुँ…….♥ ♥ ♥…

अगर दिल के किसी कोने को छू जाये तो शेयर कर देना…..

Updated: June 13, 2015 — 7:23 am

मुलाकात अकबर-बीरबल की – अकबर बीरबल के किस्से

अकबर को शिकार का बहुत शौक था. वे किसी भी तरह शिकार के लिए समय निकल ही लेते थे. बाद में वे अपने समय के बहुत ही अच्छे घुड़सवार और शिकरी भी कहलाये. एक बार राजा अकबर शिकार के लिए निकले, घोडे पर सरपट दौड़ते हुए उन्हें पता ही नहीं चला और केवल कुछ सिपाहियों को छोड़ कर बाकी सेना पीछे रह गई. शाम घिर आई थी, सभी भूखे और प्यासे थे, और समझ गए थे की वो रास्ता भटक गए हैं. राजा को समझ नहीं आ रहा था की वह किस तरफ़ जाएं.
कुछ दूर जाने पर उन्हें एक तिराहा नज़र आया. राजा बहुत खुश हुए चलो अब तो किसी तरह वे अपनी राजधानी पहुँच ही जायेंगे. लेकिन जाएं तो जायें किस तरफ़. राजा उलझन में थे. वे सभी सोच में थे किंतु कोई युक्ति नहीं सूझ रही थी. तभी उन्होंने देखा कि एक लड़का उन्हें सड़क के किनारे खड़ा-खडा घूर रहा है. सैनिकों ने यह देखा तो उसे पकड़ कर राजा के सामने पेश किया. राजा ने कड़कती आवाज़ में पूछा, “ऐ लड़के, आगरा के लिए कौन सी सड़क जाती है”? लड़का मुस्कुराया और कहा, “जनाब, ये सड़क चल नहीं सकती तो ये आगरा कैसे जायेगी”. महाराज जाना तो आपको ही पड़ेगा और यह कहकर वह खिलखिलाकर हंस पड़ा.

सभी सैनिक मौन खड़े थे, वे राजा के गुस्से से वाकिफ थे. लड़का फ़िर बोला,” जनाब, लोग चलते हैं, रास्ते नहीं”. यह सुनकर इस बार राजा मुस्कुराया और कहा,” नहीं, तुम ठीक कह रहे हो. तुम्हारा नाम क्या है, अकबर ने पूछा. मेरा नाम महेश दास है महाराज, लड़के ने उत्तर दिया, और आप कौन हैं? अकबर ने अपनी अंगूठी निकाल कर महेश दास को देते हुए कहा, “तुम महाराजा अकबर – हिंदुस्तान के सम्राट से बात कर रहे हो”. मुझे निडर लोग पसंद हैं. तुम मेरे दरबार में आना और मुझे ये अंगूठी दिखाना. ये अंगूठी देख कर मैं तुम्हें पहचान लूंगा. अब तुम मुझे बताओ कि मैं किस रास्ते पर चलूँ ताकि मैं आगरा पहुँच जाऊं.

महेश दास ने सिर झुका कर आगरा का रास्ता बताया और जाते हुए हिंदुस्तान के सम्राट को देखता रहा|

और इस तरह अकबर भविष्य के बीरबल से मिले ।

Updated: May 16, 2015 — 11:45 am

फेहरिस्त मूर्खों की – अकबर बीरबल के किस्से


Advertisements

बादशाह अकबर घुड़सवारी के इतने शौकीन थे कि पसंद आने पर घोड़े का मुंहमांगा दाम देने को तैयार रहते थे। दूर-दराज के मुल्कों, जैसे अरब, पर्शिया आदि से घोड़ों के विक्रेता मजबूत व आकर्षक घोड़े लेकर दरबार में आया करते थे। बादशाह अपने व्यक्तिगत इस्तेमाल के लिए चुने गए घोड़े की अच्छी कीमत दिया करते थे। जो घोड़े बादशाह की रुचि के नहीं होते थे उन्हें सेना के लिए खरीद लिया जाता था।

अकबर के दरबार में घोड़े के विक्रेताओं का अच्छा व्यापार होता था।

एक दिन घोड़ों का एक नया विक्रेता दरबार में आया। अन्य व्यापारी भी उसे नहीं जानते थे। उसने दो बेहद आकर्षक घोड़े बादशाह को बेचे और कहा कि वह ठीक ऐसे ही सौ घोड़े और लाकर दे सकता है, बशर्ते उसे आधी कीमत पेशगी दे दी जाए।

बादशाह को चूंकि घोड़े बहुत पसंद आए थे, सो वैसे ही सौ और घोड़े लेने का तुरंत मन बना लिया।

बादशाह ने अपने खजांची को बुलाकर व्यापारी को आधी रकम अदा करने को कहा। खजांची उस व्यापारी को लेकर खजाने की ओर चल दिया। लेकिन किसी को भी यह उचित नहीं लगा कि बादशाह ने एक अनजान व्यापारी को इतनी बड़ी रकम बतौर पेशगी दे दी। लेकिन विरोध जताने की हिम्मत किसी के पास न थी।

सभी चाहते थे कि बीरबल यह मामला उठाए।

बीरबल भी इस सौदे से खुश न था। वह बोला, ‘‘हुजूर ! कल मुझे आपने शहर भर के मूर्खों की सूची बनाने को कहा था। मुझे खेद है कि उस सूची में आपका नाम सबसे ऊपर है।’’

बादशाह अकबर का चेहरा मारे गुस्से के सुर्ख हो गया। उन्हें लगा कि बीरबल ने भरे दरबार में विदेशी मेहमानों के सामने उनका अपमान किया है।

गुस्से से भरे बादशाह चिल्लाए, ‘‘तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई हमें मूर्ख बताने की ?’’

‘‘क्षमा करें बादशाह सलामत।’’ बीरबल अपना सिर झुकाते हुए सम्मानित लहजे में बोला आप चाहें तो मेरा सर कलम करवा दें, यदि आप के कहने पर तैयार की गई मूर्खों की फेहरिस्त में आपका नाम सबसे ऊपर रखना आपको गलत लगे।’’

दरबार में ऐसा सन्नाटा छा गया कि सुई गिरे तो आवाज सुनाई दे जाए।

अब बादशाह अकबर अपना सीधा हाथ उठाए, तर्जनी को बीरबल की ओर ताने आगे बढ़े। दरबार में मौजूद सभी लोगों की सांस जैसे थम सी गई थी। उत्सुक्ता व उत्तेजना सभी के चेहरों पर नृत्य कर रही थी। उन्हें लगा कि बादशाह सलामत बीरबल का सिर धड़ से अलग कर देंगे। इससे पहले किसी की इतनी हिम्मत न हुई थी कि बादशाह को मूर्ख कहे।

लेकिन बादशाह ने अपना हाथ बीरबल के कंधे पर रख दिया। वह कारण जानना चाहते थे। बीरबल समझ गया कि बादशाह क्या चाहते हैं। वह बोला, ‘‘आपने घोड़ों के ऐसे व्यापारी को बिना सोचे-समझे एक मोटी रकम पेशगी दे दी, जिसका अता-पता भी कोई नहीं जानता। वह आपको धोखा भी दे सकता है। इसलिए मूर्खों की सूची में आपका नाम सबसे ऊपर है। हो सकता है कि अब वह व्यापारी वापस ही न लौटे। वह किसी अन्य देश में जाकर बस जाएगा और आपको ढूढ़े नहीं मिलेगा। किसी से कोई भी सौदा करने के पूर्व उसके बारे में जानकारी तो होनी ही चाहिए। उस व्यापारी ने आपको मात्र दो घोड़े बेचे और आप इतने मोहित हो गए कि मोटी रकम बिना उसको जाने-पहचाने ही दे दी। यही कारण है बस।’’

‘‘तुरंत खजाने में जाओ और रकम की अदायगी रुकवा दो।’’ अकबर ने तुरंत अपने एक सेवक को दौड़ाया।

बीरबल बोला, ‘‘अब आपका नाम उस सूची में नहीं रहेगा।’’

बादशाह अकबर कुछ क्षण तो बीरबल को घूरते रहे, फिर अपनी दृष्टि दरबारियों पर केन्द्रित कर ठहाका लगाकर हंस पड़े। सभी लोगों ने राहत की सांस ली कि बादशाह को अपनी गलती का अहसास हो गया था। हंसी में दरबारियों ने भी साथ दिया और बीरबल की चतुराई की एक स्वर से प्रशंसा की।

Updated: May 16, 2015 — 11:45 am

पैनी दृष्टि – अकबर-बीरबल के किस्से

बीरबल बहुत नेक दिल इंसान थे। वह सैदव दान करते रहते थे और इतना ही नहीं, बादशाह से मिलने वाले इनाम को भी ज्यादातर गरीबों और दीन-दुःखियों में बांट देते थे, परन्तु इसके बावजूद भी उनके पास धन की कोई कमी न थी। दान देने के साथ-साथ बीरबल इस बात से भी चौकन्ने रहते थे कि कपटी व्यक्ति उन्हें अपनी दीनता दिखाकर ठग न लें।

ऐसे ही अकबर बादशाह ने दरबारियों के साथ मिलकर एक योजना बनाई कि देखें कि सच्चे दीन दुःखियों की पहचान बीरबल को हो पाती है या नही। बादशाह ने अपने एक सैनिक को वेश बदलवाकर दीन-हीन अवस्था में बीरबल के पास भेजा कि अगर वह आर्थिक सहायता के रूप में बीरबल से कुछ ले आएगा, तो अकबर की ओर से उसे इनाम मिलेगा।

एक दिन जब बीरबल पूजा-पाठ करके मंदिर से आ रहे थे तो भेष बदले हुए सैनिक ने बीरबल के सामने आकर कहा, “हुजूर दीवान! मैं और मेरे आठ छोटे बच्चे हैं, जो आठ दिनों से भूखे हैं….भगवान का कहना है कि भूखों को खाना खिलाना बहुत पुण्य का कार्य है, मुझे आशा है कि आप मुझे कुछ दान देकर अवश्य ही पुण्य कमाएंगे।”

बीरबल ने उस आदमी को सिर से पांव तक देखा और एक क्षण में ही पहचान लिया कि वह ऐसा नहीं है, जैसा वह दिखावा कर रहा है।

बीरबल मन ही मन मुस्कराए और बिना कुछ बोले ही उस रास्ते पर चल पडे़ जहां से होकर एक नदी पार करनी पड़ती थी। वह व्यक्ति भी बीरबल के पीछे-पीछे चलता रहा। बीरबल ने नदी पार करने के लिए जूती उतारकर हाथ में ले ली। उस व्यक्ति ने भी अपने पैर की फटी पुरानी जूती हाथ में लेने का प्रयास किया।
बीरबल नदी पार कर कंकरीले मार्ग आते ही दो-चार कदम चलने के बाद ही जूती पहन लेता। बीरबल यह बात भी गौर कर चुके थे कि नदी पार करते समय उसका पैर धुलने के कारण वह व्यक्ति और भी साफ-सुथरा, चिकना, मुलायम गोरी चमड़ी का दिखने लगा था इसलिए वह मुलायम पैरों से कंकरीले मार्ग पर नहीं चल सकता था।

“दीवानजी! दीन ट्टहीन की पुकार आपने सुनी नहीं?” पीछे आ रहे व्यक्ति ने कहा।

बीरबल बोले, “जो मुझे पापी बनाए मैं उसकी पुकार कैसे सुन सकता हूँ? ”

“क्या कहा? क्या आप मेरी सहायता करके पापी बन जांएगे?”

“हां, वह इसलिए कि शास्त्रों में लिखा है कि बच्चे का जन्म होने से पहले ही भगवान उसके भोजन का प्रबन्ध करते हुए उसकी मां के स्तनों में दूध दे देता है, उसके लिए भोजन की व्यव्स्था भी कर देता है। यह भी कहा जाता है कि भगवान इन्सान को भूखा उठाता है पर भूखा सुलाता नहीं है। इन सब बातों के बाद भी तुम अपने आप को आठ दिन से भूखा कह रहे हो। इन सब स्थितियों को देखते हुए यहीं समझना चाहिये कि भगवान तुमसे रूष्ट हैं और वह तुम्हें और तुम्हारे परिवार को भूखा रखना चाहते हैं लेकिन मैं उसका सेवक हूँ, अगर मैं तुम्हारा पेट भर दूं तो ईश्वर मुझ पर रूष्ट होगा ही। मैं ईश्वर के विरूध्द नहीं जा सकता, न बाबा ना! मैं तुम्हें भोजन नहीं करा सकता, क्योंकि यह सब कोई पापी ही कर सकता है।”

बीरबल का यह जबाब सुनकर वह चला गया।

उसने इस बात की बादशाह और दरबारियों को सूचना दी।

बादशाह अब यह समझ गए कि बीरबल ने उसकी चालाकी पकड़ ली है।

अगले दिन बादशाह ने बीरबल से पूछा, “बीरबल तुम्हारे धर्म-कर्म की बड़ी चर्चा है पर तुमने कल एक भूखे को निराश ही लौटा दिया, क्यों?”

“आलमपनाह! मैंने किसी भूखे को नहीं, बल्कि एक ढोंगी को लौटा दिया था और मैं यह बात भी जान गया हूँ कि वह ढोंगी आपके कहने पर मुझे बेवकूफ बनाने आया था।”

अकबर ने कहा, “बीरबल! तुमनें कैसे जाना कि यह वाकई भूखा न होकर, ढोंगी है?”

“उसके पैरों और पैरों की चप्पल देखकर। यह सच है कि उसने अच्छा भेष बनाया था, मगर उसके पैरों की चप्पल कीमती थी।”

बीरबल ने आगे कहा, “माना कि चप्पल उसे भीख में मिल सकती थी, पर उसके कोमल, मुलायम पैर तो भीख में नहीं मिले थे, इसलिए कंकड क़ी गड़न सहन न कर सके।”

इतना कहकर बीरबल ने बताया कि किस प्रकार उसने उस मनुष्य की परीक्षा लेकर जान लिया कि उसे नंगे पैर चलने की भी आदत नहीं, वह दरिद्र नहीं बल्कि किसी अच्छे कुल का खाता कमाता पुरूष है।”

बादशाह बोले, “क्यों न हो, वह मेरा खास सैनिक है।” फिर बहुत प्रसन्न होकर बोले, “सचमुच बीरबल! माबदौलत तुमसे बहुत खुश हुए! तुम्हें धोखा देना आसान काम नहीं है।”

बादशाह के साथ साजिश में शामिल हुए सभी दरबारियों के चेहरे बुझ गए।

Updated: May 16, 2015 — 11:45 am

बात सबके मन की – अकबर बीरबल के किस्से

एक बार दरबार में एक सभासद ने बादशाह अकबर से कहा – जहाँपनाह ! ऐसा कौन सा प्रश्न है ,जो हम नहीं बता सकते और बीरबल बता सकता है ?
बादशाह ने मन में सोचा कि इसको बीरबल से नीचा दिखाऊंगा . यह सोचकर उन्होंने कहा – अच्छा बताओ इस समय लोगों के मन में क्या है ?
वह सभासद बोला – हुजूर ! यह बात तो सिवाय खुदा के और कोई नहीं बता सकता ,बीरबल बता दें तो हम जाने .
उसी समय बीरबल बुलाये गए . उनके सामने भी यही प्रश्न रखा गया . उन्होंने तुरंत ही कहा इस समय सबके मन में यही बात है कि यह दरबार सदा इसी तरह भरा रहे और बादशाह सलामत सदा जिंदा रहें .
सभी ने उनकी बात को मान लिया , क्योंकि अस्वीकार करने पर मौत किसे बुलानी थी . बेचारा सभासद अपना सा मुँह लेकर रह गया . बादशाह अकबर जबाब को सुनकर बड़े प्रसन्न हुए और बीरबल को पुरस्कार भी दिया .

Updated: May 16, 2015 — 11:45 am
Page 1 of 3123
Loading...
loading...
DilSeDilTak.co.in © 2015