DilSeDilTak.co.in

Shayari, SMS, Quotes, Jokes And More....

Loading...

Category: Health Tips

Gharelu Upchar Haldi Se Hindi Mein – पानी में हल्दी मिलाकर पीने से होते है यह 7 फायदें

पानी में हल्दी मिलाकर पीने से होते है यह 7 फायदें…..

1. गुनगुना हल्दी वाला पानी पीने से दिमाग तेज होता है. सुबह के समय हल्दी का गुनगुना पानी पीने से दिमाग तेज और उर्जावान बनता है.

2. रोज यदि आप हल्दी का पानी पीते हैं तो इससे खून में होने वाली गंदगी साफ होती है और खून जमता भी नहीं है. यह खून साफ करता है और दिल को बीमारियों से भी बचाता है.

3. लीवर की समस्या से परेशान लोगों के लिए हल्दी का पानी किसी औषधि से कम नही है. हल्दी के पानी में टाॅक्सिस लीवर के सेल्स को फिर से ठीक करता है. हल्दी और पानी के मिले हुए गुण लीवर को संक्रमण से भी बचाते हैं.

4. हार्ट की समस्या से परेशान लोगों को हल्दी वाला पानी पीना चाहिए. हल्दी खून को गाढ़ा होने से बचाती है. जिससे हर्ट अटैक की संभावना कम हो जाती है.

5. जब हल्दी के पानी में शहद और नींबू मिलाया जाता है तब यह शरीर के अंदर जमे हुए विषैले पदार्थों को निकाल देता है जिससे पीने से शरीर पर बढ़ती हुई उम्र का असर नहीं पड़ता है. हल्दी में फ्री रेडिकल्स होते हैं जो सेहत और सौर्दय को बढ़ाते हैं.

6. शरीर में किसी भी तरह की सजून हो और वह किसी दवाई से ना ठीक हो रही हो तो आप हल्दी वाला पानी का सेवन करें. हल्दी में करक्यूमिन तत्व होता है जो सूजन और जोड़ों में होने वाले असाहय दर्द को ठीक कर देता है. सूजन की अचूक दवा है हल्दी का पानी.

7. कैंसर खत्म करती है हल्दी. हल्दी कैंसर से लड़ती है और उसे बढ़ने से भी रोक देती है. हल्दी एंटी.कैंसर युक्त होती है. यदि आप सप्ताह में तीन दिन हल्दी वाला पानी पीएगें तो आपको भविष्य में कैंसर से हमेशा बचे रहेगें.

Updated: October 11, 2016 — 7:33 pm

हेल्थ व सेफ्टी टिप्स होली पर : कैसे रहे होली पर स्वस्थ व सुरक्षित

सुरक्षित व स्वस्थ तरीके से कैसे मनाये होली :-

आहार

त्योहार आने पर कर्इ लोग जो डाइटिंग पर भी होते हैं, वह भी इस दिन खुद के पेट को कंट्रोल नहीं कर पाते। यही समय है जब वेट ज्यादा बढ जाता है।

सिंथेटिक रंग को कहें ना

बाजार में मिलने वाले रंगों में लेड आक्साइड, मरकरी सल्फाइड ब्रोमाइड, कापर सल्फेट आदि भयानक केमिकल मिले होते हैं जो कि आंखों की एलर्जी, त्वचा में खुजली और अंधा तक बना देते हैं।

प्राकृतिक रंगों का प्रयोग

आप बाजारू रंगों की जगह पर हिना, हल्दी पाउडर, चंदन, फूलों की पंखुडियों का चूरा आदि भी प्रयोग कर सकते हैं, जो कि त्वचा को बिल्कुल भी नुकसान नहीं पहुंचाएगा।

एलर्जी

वे लोग जिन्हें रंगों से एलर्जी हैं, उन्हें हर हाल में इन रंगों से दूर रहना चाहिये। वे लोग जिन्हें एक्जिमा की बीमारी है, वे इन रंगों से हर हाल में दूरी बनाएं।

घाव पर रखें नजर

होली खेलते वक्त त्वचा लगातार पानी के संपर्क में रहती है, इसलिये त्वचा पर घाव और कटने छिलने के आसान बढ जाते हैं। अगर आपकी त्वचा कट छिल जाए तो उस पर एंटीसेप्टिक लगाएं और रंग खेलना बंद कर दें।

कपड़ो का रखें खयाल

होली खेलने के दौरान अक्सर खींचतान में कपड़े फटने या सिलाई खुलाने का डर होता है। इसलिए ध्यान रखें कि कपड़े ज्यादा पुराने नहीं हो। जिससे आपको शर्मिदगी उठानी पड़े। और कोशिश करें कि पूरा शरीर ढकने वाले कपड़े ही पहनें। इससे काफी हद तक शरीर का रंगों से बचाव हो जाता है।

त्वचा का रखें खयाल

होली खेलने से पहले अपने शरीर पर खूब सारा तेल या फिर मॉश्चराइजर लगाएं । इसके 15 मिनट बाद अपने शरीर पर वाटरप्रूफ सनस्क्रीन लगाएं। इससे आपकी त्वचा पर रंगों का असर नहीं होगा और नहाते वक्त रंग आसानी से निकल जाएगा।

गहरे रंग के कपड़े पहनें

होली में गीले रंगों का ज्यादा इस्तेमाल होता है। लोग आप पर बाल्टी में रंग घोल कर डालते हैं। ऐसे में अगर आप सफेद या हल्के रंग के कपड़े पहनेगें तो यह गीला होकर पारदर्शी हो जाता है। जिससे आपको शर्मिंदगी उठानी पड़ सकती है। इसलिए गहरे रंग वाले कपड़े ही पहनें।

कानों का रखें खयाल

होली में कानों को भी खास ख्याल की जरूरत होती है। लोग पानी वाले गुब्बारों को एक दूसरे के ऊपर फेंकते है जिससे कानों में पानी जाने की संभावना होती है। इसलिए कानों का ध्यान रखते हुए होली खेलें।

ज्वेलरी नहीं पहनें

रंग खेलने के दौरान किसी भी तरह की ज्वेलरी नहीं पहनना चाहिए। क्योंकि होली की छेड़-छाड़ में ज्वेलरी गिरने का डर रहता है। इसके साथ होली की मस्ती में ज्वैलरी से आपको चोट भी लग सकती है। साथ ही उसमें अगर रंग फंसा रह जाए तो आपकी त्वचा को संक्रमण होने का भी खतरा रहता है।

बालों का रखें खयाल

होली खेलने से पहले अपने बालों में तेल से मसाज करें। अपनी बालों बांध कर रखें। संभव हो तो बालों को ढककर रखें, जिससे आपकी बालों का बचाव हो सके।

देखकर खरीदें रंग

जब भी रंग खरीदने जाएं तो कोशिश करें कि हरा, बैगनी, पीला और नारंगी रंग न लेकर लाल या फिर गुलाबी रंग खरीदें। क्यों कि गहरे रंगों में ज्या दा रसायन मिले हुए होते हैं।

आंखों का रखें खयाल

अपनी आखों का खास खयाल रखें। आंखों को रंग, गुलाल, अबीर आदि चला जाए तो तुरंत पानी से धोएं। क्यों कि इनमें मौजूद पोटैशियम हाईक्रोमेट नामक हानिकारक रसायन आंखों को काफी नुकसान पहुंचा सकता है। आंखों को रगड़े नहीं। ज्यादा जलन व चुभन होने पर तुरंत डॉक्टर को दिखाएं।

बच्चों का रखें खयाल

होली की मस्ती के दौरान अक्सर लोग बच्चों का ख्याल नहीं रखते हैं। बच्चों को भी अपनी मनमानी करने का मौका मिल जाता है। आपको ध्यान देना चाहिए कि बच्चे कैसे होली खेल रहें हैं।




Updated: March 2, 2015 — 5:46 am

स्वाइन फ्लू से बचाव के उपाय… ध्यान रखने योग्य बातें : हेल्थ टिप्स

स्वाइन फ्लू से बचने के लिये इन बातों का ध्यान रखें :-

  1. बच्चे को यदि सर्दी-जुकाम, खाँसी है तो उसे स्कूल न भेजें।
  2. किसी से हाथ नहीं मिलाएँ। गले नहीं मिलें।
  3. सार्वजनिक स्थानों, भी़ड़ भरे स्थानों पर थूकें नहीं।
  4. खाँसी, छींक आने पर मुँह व नाक को रूमाल, टिशू पेपर से ढँक लें।
  5. एक बार इस्तेमाल के बाद टिशू पेपर कू़ड़ेदान में फेंक दें।
  6. रूमाल को साबुन से धो लें।
  7. छींकने, खाँसने और कहीं बाहर से आने के बाद हाथ साबुन से धोएँ।
  8. अपनी आँख, नाक, मुँह को हाथ न लगाएँ। इससे वायरस फैलते हैं।
  9. जिन लोगों को श्वसन तंत्र की बीमारी हो उनके पास न जाएँ।
  10. सर्दी के मरीज साफ-सुथरा रुमाल रखें और रोज बदलें।
  11. घर में व आसपास स्वच्छता रखें।
  12. खान-पान का ख्याल रखें, तला-गला कम खाएँ।
  13. प्रदूषित, भीड़ भरे और गंदे क्षेत्रों में न जाएँ
  14. स्मोकिंग करने वालों से दूर रहें।
  15. मरीज को भी मास्क लगाएँ और खुद भी उपयोग करें।

एन-95 मास्क का उपयोग करें। यह उपलब्ध नहीं होने पर थ्री लेयर्ड उपयोग करें।
इसे गीला कर उपयोग करने पर संक्रमण की आशंका न के बराबर हो जाती है।




Updated: May 28, 2015 — 9:22 am
Loading...
DilSeDilTak.co.in © 2015