DilSeDilTak.co.in

Shayari, SMS, Quotes, Jokes And More....







Hindi Ghazal Shayari – Armaan Abhi Baaki Hain

दुनिया के दिए ज़ख्मों के, निशान अभी बाकी हैं !
हम जी रहे हैं इसलिए कि, अरमान अभी बाकी हैं !
देख कर हमें बदल देते हैं लोग अपना रास्ता अब,
शायद आते हैं वो ये देखने कि, प्राण अभी बाकी हैं !
छोड़ देते ये शहर ये गलियां सदा के लिए हम तो,
पर क्या करें कुछ लोगों के, अहसान अभी बाकी हैं !
“मिश्र” लुट तो चुके हैं हम इस दुनिया के बाजार में,
पर घर में मेरी यादों के कुछ, सामान अभी बाकी हैं !

Submitted By : शांती स्वरूप मिश्र

Leave a Reply







DilSeDilTak.co.in © 2015