DilSeDilTak.co.in

Shayari, SMS, Quotes, Jokes And More....

Sher O Shayri In 2 Lines – गिरती हुई बारिश के बूंदों को

गिरती हुई बारिश के बूंदों को अपने हाथों से समेट लो जितना पानी समेट पाए,
उतना याद तुम हमें करते हो जितना समेट ना पाई, उतना हम तुम्हे करते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DilSeDilTak.co.in © 2015