DilSeDilTak.co.in

Shayari, SMS, Quotes, Jokes And More....

Bashir Badr Shayari

Agar Gale Nahi Milta To Hath Bhi Na Mila – Bashir Badr’s Ghazal

मोहब्बतों में दिखावे की दोस्ती न मिला
अगर गले नहीं मिलता, तो हाथ भी न मिला
घरों पे नाम थे, नामों के साथ ओहदे थे
बहुत तलाश किया, कोई आदमी न मिला
तमाम रिश्तों को मैं, घर में छोड़ आया था
फिर इसके बाद मुझे, कोई अजनबी न मिला
ख़ुदा की इतनी बड़ी कायनात में मैंने
बस एक शख़्स को मांगा, मुझे वही न मिला
बहुत अजीब है ये कुरबतों की दूरी भी
वो मेरे साथ रहा, और मुझे कभी न मिला

Advertisements
loading...

Updated: December 4, 2014 — 9:16 am

Sar Jhukaoge To Patthar Devta Ho Jayega – Ghazal By Bashir Badr

सर झुकाओगे तो पत्थर देवता हो जाएगा
इतना मत चाहो उसे, वो बेवफ़ा हो जाएगा
हम भी दरिया हैं, हमें अपना हुनर मालूम है
जिस तरफ भी चल पड़ेंगे, रास्ता हो जाएगा
कितनी सच्चाई से मुझसे, ज़िन्दगी ने कह दिया
तू नहीं मेरा तो कोई दूसरा हो जाएगा
मैं खुदा का नाम लेकर, पी रहा हूं दोस्तों
ज़हर भी इसमें अगर होगा, दवा हो जाएगा
सब उसी के हैं, हवा, ख़ुशबू, ज़मीन-ओ-आसमां
मैं जहां भी जाऊंगा, उसको पता हो जाएगा
Updated: December 4, 2014 — 9:13 am

Bashir Badr Shayari – Parakhna mat parakhne mein koi apna nahi rehta

Advertisements

Parakhna mat parakhne mein koi apna nahi rehta,
Kisi bhi Aaina me dair tak chehra nahi rehta…

Baray logon se milne me hamesha fasla rakha,
Jahan darya samandar se mila, darya nahi rehta…

Updated: November 28, 2014 — 9:29 am
DilSeDilTak.co.in © 2015