Motivational Shayari On Hosla And Manzil

डर मुझे भी लगा फासला देखकर,
पर मैं बढता गया रास्ता देखकर,
खुद बा खुद मेरे नजदीक आती गयी ,
मेरी मंजिल,मेरा होसला देखकर।।