Jab bhi Jee Chahe Nai Duniya Basa Lete Hai Log – Sahir Ludhianvi Shayari

जब भी जी चाहे नई दुनिया बसा लेते हैं लोग
एक चेहरे पर कई चेहरे लगा लेते हैं लोग