अमीर आगा किज़ल्बाश ग़ज़ल – Mere Junoon Ka Nateeja Jarur Niklega


अमीर आगा किज़ल्बाश ग़ज़ल (Amir Agha Qazalbash’s ghazal) :

मेरे जुनूँ का नतीजा ज़रूर निकलेगा
इसी सियाह समंदर से नूर निकलेगा

गिरा दिया है तो साहिल पे इंतज़ार न कर
अगर वोह डूब गया है तो दूर निकलेगा

उसी का शहर, वही मुद्दई, वही मुंसिफ
हमीं यकीन था, हमारा कुसूर निकलेगा

यकीन न आये तो एक बार पूछ कर देखो
जो हंस रहा है वोह ज़ख्मों से चूर निकलेगा