Barsaat Hindi Shayari – बरसात आये तो ज़मीन गीली


बरसात आये तो ज़मीन गीली न हो,धूप आये तो सरसों पीली न हो,
तूने यह कैसे सोच लिया कि, तेरी याद आये और पलकें गीली न हों

Barsaat Hindi Shayari – मोहब्बत भी चाहते हो और

मोहब्बत भी चाहते हो और वफा भी,
जनाब आप तो धुएं के बादलो से बरसात मांग रहे हो…..!!

Barsaat Hindi Shayari – नज़र ने नज़र से मुलाक़ात

नज़र ने नज़र से मुलाक़ात कर ली,
रहे दोनों खामोश पर बात करली,
मोहब्बत की फिजा को जब खुश पाया,
इन आंखों ने रो रो के बरसात कर ली

Barsaat Hindi Shayari – बता किस कोने में सुखाऊँ

बता किस कोने में, सुखाऊँ तेरी यादें,
बरसात बाहर भी है, और भीतर भी है..

1 2