दर्द भरी शायरी २ लाइन में – मेरे अहसानों का कर्ज़ तुम यूँ

मेरे अहसानों का कर्ज़ तुम यूँ चुका देना,
कभी याद करके अकेले में मुस्कुरा देना,


बेहतरीन शेर ओ शायरी हिंदी में – मुझे मालूम था के लौट के

मुझे मालूम था के लौट के अकेले ही आना है ,
फिर भी तेरे साथ चार कदम चलना अच्छा लगा !!


उदासी भरी हिंदी शायरी – उसके सिवा किसी और को चाहना

उसके सिवा किसी और को चाहना मेरे बस में नहीं,
ये दिल उसका है, अपना होता तो बात और थी…


1 2 3 20