Husn Hindi Shayari – तेरे हुस्न पर तारीफों भरी


तेरे हुस्न पर तारीफों भरी किताब लिख देता
काश तेरी वफा तेरे हुस्न के बराबर होती

Husn Hindi Shayari – तेरे हुस्न को परदे की

तेरे हुस्न को परदे की ज़रुरत नहीं है ग़ालिब,
कौन होश में रहता है तुझे देखने के बाद..

Husn Hindi Shayari – मेरे इश्क़ से मिली है

मेरे इश्क़ से मिली है ,,
तेरे हुस्न को ये शौहरत ,

तेरा ज़िक्र ही कहाँ था
मेरी दीवानगी से पहले ,,

Husn Hindi Shayari – देने वाले ने तुझको हुस्न

देने वाले ने तुझको हुस्न दिया
हमको अता आशकि कर दी

जुल्फो को बिखरा के रूख पर
शाम और भी रंगीन कर दी

1 2