Dharmik Shayari – ना गिनकर देता है


ना गिनकर देता है,
ना तोलकर देता है,
जब भी मेरा ‘श्याम’ देता है,
दिल खोल कर देता है।…..

जै श्री राधे कृष्ण!!!!!!!!!!