Best Shayari In 2 Lines – मगर शाम ही तो है


दिल ना-उमीद तो नहीं नाकाम ही तो है
लम्बी है ग़म की शाम मगर शाम ही तो है
~ फ़ैज़ अहमद फ़ैज़